Categories
Hindi Shayri

आज़् का हिन्दोस्तान

देश ज़ल रहा है, तो ज़लने दो
हमें हिन्दोस्तान नहीं,हिन्दुस्थान चाहिये
छात्र पिट रहे हैं,तो पिटने दो
छात्रायें बेइज़्ज़्त हो रही हैं,तो होने दो
हमें हिन्दोस्तान नहीं,हिन्दुस्थान चाहिये
बच्चे बिलख रहे हैं,तो बिलखने दो
औरतें विधबा हो रही हैं,तो होने दो
हमें हिन्दोस्तान नहीं,हिन्दुस्थान चाहिये
फ़ैकटरियाँ बन्द हो रही हैं,तो होने दो
नौकरियाँ जा रही हैं,तो जाने दो
हमें हिन्दोस्तान नहीं,हिन्दुस्थान चाहिये
लोग भूखे मर रहे हैं,तो मरने दो
लोग आत्म्हत्यायें कर रहे हैं,तो करने दो
हमें हिन्दोस्तान नहीं,हिन्दुस्थान चाहिये